कुछ मन की कर जाऊँ

????
आज मैं कुछ मन की कर जाऊँ।
बिना पंख गगन में उड़ जाऊँ।
?
चाँद सितारे तोड़ के लाऊँ।
अपने बगिया में मैं लगाऊँ।
?
प्रकृति से मैं रंग चुरा लूँ।
अपने सुने मन को रंग जाऊँ।
?
फूलों की खुश्बू बन जाऊँ।
सब के मन को मैं महकाऊँ।
?
बादल के संग नाचूँ – गाऊँ।
कभी पतंगा,कभी चिड़िया बन जाऊँ।
?
सपनों की दुनिया मैं सजाऊँ।
परीलोक में धूम मचाऊँ।
?
सात सुरों की संगीत बजाऊँ।
जीवन के हर तार सजाऊँ।
?
आशा-निराशा की भूलभुलैया से
दूर कहीं एक नई दुनिया बसाऊँ।
?
जब तक हूँ मैं खुद भी जीऊँ।
औरों को भी मैं जीना सीखा दूँ।
?
स्वर्ग यही है नर्क यही है,
सबको मैं इतना समझाऊँ।
?
आज मैं कुछ मन की कर जाऊँ।
बिना पंख गगन में उड़ जाऊँ।
????-लक्ष्मी सिंह ??

222 Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: