Nov 26, 2016 · दोहे
Reading time: 1 minute

कुछ दोहे

बिन सोचे समझे नहीं , करना भारत बंद
अच्छे दिन अब दूर हैं , बस कदमों पर चंद

दाल गलेगी अब नहीं,सुनो खोल कर कान
काला धन अब देश में, कुछ दिन का मेहमान

भौतिक सुख तो बढ़ गए , दुखी मगर सब लोग
हँसना भी देखो यहाँ , सीखें करके योग

लगता है अब देश के , सुधरेंगे हालात
कलयुग में होने लगी, सतयुग जैसी बात

मुस्कायेगा बस तभी, अपना हिंदुस्तान
हो जाएंगे एक जब, गीता और कुरान

डॉ अर्चना गुप्ता

128 Views
Copy link to share
#20 Trending Author
Dr Archana Gupta
997 Posts · 123.2k Views
Follow 75 Followers
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद... View full profile
You may also like: