कुछ दोहे

घोर तमस संसार में,
भटक रहा इन्सान l
सबके अपने देखिये,
अलग-अलग भगवान l
—————
नई पौध के दौर में,
मर्यादा यों ढेर l
राह राम की तक रहे,
फिर शबरी के बेर l
—————
जब मैलापन दे रहा,
पहरा मन के द्वार l
रूप सलोना श्याम का,
कैसे हो साकार l
—————-
नन्हीं मुनिया को मिला,
उसी जगत से त्रास l
जिसमें लोगों ने रखा,
नौ दिन का उपवास l
—————-
मोह-पाश में फँस गया,
मांग रहा उद्धार l
मन के केवट को करो,
रघुवर नदिया पार l
—————-
– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ.प्र.)
मो. 8941912642

Like Comment 0
Views 110

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing