कुछ दोहे

घोर तमस संसार में,
भटक रहा इन्सान l
सबके अपने देखिये,
अलग-अलग भगवान l
—————
नई पौध के दौर में,
मर्यादा यों ढेर l
राह राम की तक रहे,
फिर शबरी के बेर l
—————
जब मैलापन दे रहा,
पहरा मन के द्वार l
रूप सलोना श्याम का,
कैसे हो साकार l
—————-
नन्हीं मुनिया को मिला,
उसी जगत से त्रास l
जिसमें लोगों ने रखा,
नौ दिन का उपवास l
—————-
मोह-पाश में फँस गया,
मांग रहा उद्धार l
मन के केवट को करो,
रघुवर नदिया पार l
—————-
– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ.प्र.)
मो. 8941912642

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 121

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share