.
Skip to content

*** कुछ तो हक़ीक़त है ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

August 1, 2017

मेरी
हर बात
हकीकत
नही होती
पर
हकीकत से
कुछ कम
भी
नहीं है
हाँ
ये बात और
है कि
मैं
हर बात को
यूं ही
मज़ाक के
तौर पर
लेता हूँ
मगर
जो कहता हूँ
कुछ तो
हकीकत है ।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
सपने और हक़ीक़त ....
हक़ीक़त सपनों से ही होती है हक़ीक़त सपनों के बिना हक़ीक़त में वोह बात नहीं होती हम तो दिन में भी सँजोए हैं आँखो में... Read more
*हकीक़त का सामना*
सामना हकीकत का जो करते हैं फ़िर कहाँ खयालों में जिया करते हैं सुहानी हो जाती है हर इक डगर प्रभु खुद उनकी मदद किया... Read more
बात की बात करूँगा
बात की बात करूँगा आदमी हूँ आदमी से आदमियत का ही इज़हार करूँगा। और उनसे ही तो मैं ऐसे बात करूँगा। आदमी हूँ आदमी..................... फ़र्जी... Read more
मुक्तक
तुमसे मैं हरवक्त बात किया करता हूँ! यादों से मैं मुलाकात किया करता हूँ! हर ख्वाब तड़पाता है बेइंतहा मुझको, गम से गुफ्तगूँ हर रात... Read more