.
Skip to content

कुछ घनाक्षरी छंद

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

घनाक्षरी

September 19, 2017

कुछ घनाक्षरी छंद
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
छन्द जो घनाक्षरी मैं लिखने चला हूँ आज, मुझको बताएँ जरा कहाँ कहाँ दोष है।
या कि मैँ हूँ मन्दबुद्धि लिख नहीँ पाता कुछ, सिर पे ये झूठ ही सवार हुआ जोश है।
मेरी कविता से नुकशान बड़ा गृहिणी का, प्यारे इस छन्द ने कि छीन लिया होश है।
सफल नहीँ हूँ यदि छन्द लिखने मे कहीँ, लिखूँ कुछ और भाई मुझे परितोष है।
★★★
नेता अब करते हैँ अपनी ही स्वार्थ सिद्धि, जनता से नहीँ कुछ इन्हेँ सरोकार है।
लूटने-खसोटने मेँ लगीँ हुईँ सरकारेँ, लगता कि इनका तो यही कारोबार है।
हम तो बेरोजगार रात-दिन बार बार, डूबते हैँ पर नहीँ मिले पतवार है।
खुद को किनारे यदि कर लेँगे अगुवा ही, हमको बचाए कौन ये तो मझधार है।
★★★
अपने में गुम रहूँ अब गुमसुम रहूँ, किसी को भी खुश क्यों मैं यार नहीं करता।
सच कहते है सभी गलती करूँ मैं रोज, पर एक बार भी स्वीकार नहीँ करता।
यह भी तो सत्य है कि बावला हुआ हूँ अब, सोच व विचार एक बार नहीं करता।
सब है पसंद पर यह मत कहना कि, आदमी हूँ आदमी से प्यार नहीं करता।
★★★
कितने बेचैन होके काम रोज करते हैं, जीने के लिए ही बार बार हाय मरते।
जिन्दगी मिली है सच कहती है दुनिया ये, पर कहाँ पर है तलाश रोज करते।
हमको तो लगता कि दुख ही की दुनिया ये, दुख से ही दुख में ही दुख हम भरते।
इसीलिए दुख के पहाड़ हों या झील कोई, दुखी हम इतने कि दुख सब डरते।

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
टूटकर बिखरने का हौसला नहीँ है
मुझे आपसे कोई गिला नहीँ है मेरी किस्मत मेँ ही वफा नहीँ है टूटने को तो मै सौ बार टूटा हूँ टूटकर बिखरने का हौसला... Read more
शांत और मुक्त भी मैं ,निर्भय हूँ निराश्रय:: जितेंद्रकमलआनंद( पोस्ट१०३)
राजयोगमहागीता: घनाक्षरी : अधंयाय२ छंद १८ -------------------------- शांत और मुक्त भी मै , निर्भय हूँ निराश्रय , न ही मोक्षाकांक्षी हूँ , न ही हूँ... Read more
ग़ज़ल- सताओगे मुझे लगता नहीं था
ग़ज़ल- सताओगे मुझे लगता नहीं था ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ सताओगे मुझे लगता नहीँ था तुम्हारे प्यार मेँ धोखा नहीँ था कभी आँखोँ मेँ आँखेँ डालते थे चुराओगे... Read more
प्रकृति
शिखरिणी छंद । सघन वन । खोते अस्तित्व । भीगे नयन ।। कैसे हो वर्षा । खत्म होते पेड़ । मन तरसा ।। हमें है... Read more