कविता · Reading time: 1 minute

कुछ खास एक बात

कुछ खास एक बात एक छोटी सी मुलाकात
तकदीरों पर किसी की एक सपनों की बारात
मुस्कुराहट किसी की मेरे लफ्ज़ बन गई
खूबसूरत सी अदा जैसे मेरे दिल को छू गई
कदमों की आहट मैं सुनी मैंने किसी शायर की शायरी अंधेरी राहों में जैसे तुम्हें हल्की सी रोशनी
वजह दे गई जीने की मेरी मोहब्बत को आजमाने की
बातों में तुम्हारी एहसास का किनारा
तपती हुई धरती को जैसे ओस का सहारा
मिलते नहीं अक्सर लोग यूं ही दुनिया में
किसी को किसी का तो हमें सिर्फ तुम्हारा सहारा
कुछ खास एक बात छोटी सी मुलाकात

5 Likes · 1 Comment · 35 Views
Like
36 Posts · 1.7k Views
You may also like:
Loading...