.
Skip to content

हम कुछ कहना चाहते पर कह नहीं पाते,

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

लेख

November 13, 2017

*हम कुछ कहना चाहते है,
पर खुद से कुछ कह नहीं पाते,
किसी की आड़ में कहते है,
.
जिन्हें हम आप्त वचन कहते है,
किसी के वचन,किसी की तस्वीर,
अपने से ज्यादा हम उन पर लड़ते है,
.
वक्त बहुत जालिम है,
उसकि नजाकत को नहीं समझते,

इसलिए चुप है,पर दुनिया में,
चुप्पी की कीमत बहुत नहीं दिखती,

हर किसी को रास नहीं आती,
लोग उसका भी अर्थ निकाल लेते है,

शायद उसका भी वक्त होता है,
उसकी भी हमेशा कीमत नहीं होती,

हम कुछ कहना चाहते है,
पर कह नहीं पाते ,
नफरत का बीज है ये,
बाद में पछतावा करते है,
बहुत देर है ये,
हर बार यही दोहराया जाता है,
इसलिए कभी भी जीत नहीं होती,
हार ही हाथ लगती है,

Mahender Singh Author at

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
आदमी से हटकर
यदि हम , कुछ पाना चाहते हैं तो वह यह कि- हम पाना नहीं चाहते अपने ही भीतर खोया हुआ आदमी. । यदि हम कुछ... Read more
चाह कर भी भुला न पाये हम
चाह कर भी भुला न पाये हम याद दिल में रहे बसाये हम था न आसान अलविदा कहना भीगी पलकों से मुस्कुराये हम देख कर... Read more
हम
हमारे जैसा ही होना चाहकर भी, जब हो नही पाते हैं । हमारे काम करने के अन्दाज़ से वो लोग जल जाते हैं ! हम... Read more
हम नही करते.........
ज़माने के ग़मो की शिकायत हम नही करते, किसी को आज़माने को मोहब्बत हम नही करते। साथ चलने का वादा हम बदस्तूर निभाते हैं, संग... Read more