.
Skip to content

कुंडलिया

Mahatam Mishra

Mahatam Mishra

कुण्डलिया

September 23, 2016

चित्र अभिव्यक्ति-
“कुंडलिया”

बर्फ़ीले पर्वत धरें, चादर अमल सफ़ेद
लाल तिरंगा ले खड़ा, भारत किला अभेद
भारत किला अभेद, हरा केसरिया झंडा
धवल मध्य में चक्र, शांति सुनहरा डंडा
कह गौतम चितलाय, युद्ध अतिशय ख़र्चीले
छद्म पाँव गलि जांय, पाक पर्वत बर्फ़ीले॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

Author
Mahatam Mishra
Recommended Posts
कुंडलिया
"कुंडलिया" मानव के मन में बसी, मानवता की चाह दानव की दानत रही, कलुष कुटिलता आह कलुष कुटिलता आह, मुग्ध पाजी पाखंडी वंश वेलि गुमराह,... Read more
कुंडलिया
"कुंडलिया" मानव के मन में बसी, मानवता की चाह दानव की दानत रही, कलुष कुटिलता आह कलुष कुटिलता आह, मुग्ध पाजी पाखंडी वंश वेलि गुमराह,... Read more
कुंडलिया
“कुंडलिया” अनंत चतुर्थी पावनी, गणपति गिरिजा नेह विघ्न विनाशक को नमन, शिव सुत सत्य स्नेह शिव सुत सत्य स्नेह, गजानन आभा मंडित वेदों के रखवार,... Read more
कुंडलिया
“कुंडलिया” ढोंगी करता ढोंग है, नाच जमूरे नाच बांदरिया तेरी हुई, साँच न आए आंच साँच न आए आंच, मुर्ख की चाह बावरी हो जाते... Read more