Reading time: 1 minute

कुंडलिया

एक कुण्डलिया छंद. ( ढेल- मोरनी, टहूंको- मोर की बोली)

नाचत घोर मयूर वन, चाह नचाए ढेल
चाहक चातक है विवश, चंचल चित मन गेल
चंचल चित मन गेल, पराई पीर न माने
अंसुवन झरत स्नेह, ढेल रस पीना जाने
कह गौतम चितलाय, दरश आनंद जगावत
मोर पंख लहराय, टहूंको बोले नाचत॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

25 Views
Copy link to share
Mahatam Mishra
134 Posts · 4.1k Views
You may also like: