.
Skip to content

कुंडलिया :– निन्दा रस (व्यंग)

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कुण्डलिया

August 24, 2016

कुंडलिया :– निन्दा रस

निन्दा रस में सनी हुई बस औरत की जात !
उल्टा-सूल्टा कर रही वो हर सीधी बात !
वो हर सीधी बात कहे मुँह तिरछा कर के !
हुआ हाजमा ठीक हँसे जब जी-जी भर के !
कहे “अनुज” दो घूंट बिना ये जीवन नीरस !
जिन्दा है वो आज बना जब से निन्दा रस !!

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
भक्ति रस
???? भक्ति रस से भरे हृदय में सदा ईश्वर रहें समाई। है कल्याण उसी का जिसने ये ज्योति जलाई। भक्ति रस से निकले वाणी कर्णप्रिय... Read more
कुन्डलिया :-- घट यूँ घट पनघट गए !!
कुंडलिया :-- घट यूँ घट पनघट गये !! घट यूँ घट पनघट गये, सरपट बहता नीर ! सरिता कहे पहाड़ से , फूटी है तकदीर... Read more
कतरा कतरा जी रही है वो
गजल :- कतरा कतरा जी रही है वो-: कतरा कतरा जी रही है वो दर्द-ए-आंसू पी रही है वो त्याग करके घर बनाती रही उसी... Read more
मेरी मुस्कान
मेरी जान है वो मेरी मुस्कान है वो मेरे जीवन में सजी महान है वो भगवान ने दिया वरदान है वो कभी ना छोड़ना साथ... Read more