.
Skip to content

कुंडलिया छंद

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

कुण्डलिया

July 16, 2017

कुंडलिया छंद-
मिलना मुश्किल हो गया,जग में अच्छे मित्र।
अंकित सबके हृदय में,एक स्वार्थमय चित्र।
एक स्वार्थमय चित्र,करे बस चिंता अपनी।
मुँह में केवल दोस्त,स्वयं की चले सुमिरनी।
मिले न कोई धाय,भूल सब बैठे खिलना।
रहिए अपने गेह,किसी से क्योंकर मिलना।।
डाॅ. बिपिन पाण्डेय

Author
Recommended Posts
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
क्या है 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' ? ----------------------------------------- मित्रो ! 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' , छंद शास्त्र और साहित्य-क्षेत्र में मेरा एक अभिनव प्रयोग है... Read more
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
|| 'नव कुंडलिया 'राज' छंद'-1 || ------------------------------------- दिन अच्छे सुन बच्चे आये आये लेकर बढ़े किराये , बढ़े किराए , डीजल मंहगा डीजल मंहगा ,... Read more
??छप्पय छंद??
विधा- छप्पय छंद...प्रीतम कृत ************************ होठों पर मुस्कान,दिल में लेकर अरमान। मंजिल मिलेगी रे,चलोगे यार तुम ठान। हौंसलों की सदैव,होती है जीत सुनिए। जिसने चाहा... Read more
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में प्रणय गीत-1 ----------------------------------- जब वो बोले मिसरी घोले मिसरी घोले हौले-हौले हौले-हौले प्रिय मुसकाये प्रिय मुसकाये मन को भाये मन... Read more