कुंडलियां छन्द

कारे बदरा छा गये, छम छम बरसे बूँद
राधा देखे श्याम को , अपनी आँखे मूँद
अपनी आँखे मूँद , भरे वह ठंडी आहें
कलियाँ बनती फूल , सजी हैं मन की राहें
देखा रूप अनूप , निहारे मोहन प्यारे
गये ह्रदय में डूब , गरजते बदरा कारे

पुष्प लता शर्मा

Like 1 Comment 0
Views 82

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share