Sep 9, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

कीट-पतंगे

बात इंसानो की क्या पूछो विस्फोटक बम बनाते है ।
अपने ही हाथो ख़ुशी से मौत का सामान बनाते है ।
इनसे तो अच्छा जीवन कीट – पतंगों का होता है ।
कुछ बनाते है शुद्ध मीठा शहद कुछ रेशम बनाते है ।।



।। डी. के. निवातियाँ ।।

33 Views
Copy link to share
डी. के. निवातिया
235 Posts · 49.6k Views
Follow 12 Followers
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,... View full profile
You may also like: