लघु कथा · Reading time: 1 minute

कि खबोर लल्लन भैया

कटिहार शहीद चौक के पास एक होटल के बाहरी हिस्से के भूतल पर नितांत छोटा-सा किताब दुकान, किन्तु वहाँ जो भी पत्र-पत्रिकाएं और उपन्यासादि आपको चाहिए, वो निश्चितश: मिल जाएंगे ! इस दुकान पर बैठे हैं बतौर पुस्तक-विक्रेता यानी पान चबाते ललन भैया । वे कटिहार के पत्रकार बन्धुओं के अघोषित रिपोर्टर भी जरूर थे !

लगभग बीसेक वर्षों से मैं वहाँ विद्या के विविध विधाओं के कागजी रूप को खरीद रहा था । इधर दो-तीन माह से ललन भैया अचानक बीमार पड़ गए, दिल्ली में इलाज चल रहा था, परंतु इलाजरत भैया आखिरकार कल चल बसे ! एकबार मेरे पास ‘अठन्नी’ नहीं रहने के कारण उन्होंने मुझे अखबार तक नहीं दिए थे ! उस दिन तो मुझे उनका यह कृत्य अच्छा नहीं लगा था, किन्तु बाद में मुझे लगा…. ज़िन्दगी में स्पष्टवादिता व बेबाक़ीपन जरूरी है ! हालाँकि कुछ लोगों को बेबाक-उत्तर सुनना पसंद नहीं है, तथापि उनसे मेरा उनकी मृत्युपर्यंत साथ रहा! उनकी क्या उम्र होगी ? यही 60 या कुछ कम या कुछ बेसी! भरा-पूरा परिवार छोड़कर न जाने कहाँ चले गए भैया ?

2 Likes · 33 Views
Like
You may also like:
Loading...