.
Skip to content

‘कि’ और ‘की’ का प्रयोग सुगम सरल हिंदी व्याकरण

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

August 13, 2017

*** अध्यापिका हूँ बच्चों की परेशानी भांप जाती हूँ |
कहाँ उन्हें है आती परेशानी जल्दी
पहचान जाती हूँ |

***आज तक के अनुभव से है यह पाया |
कहाँ लगाएँ ‘कि’ और ‘की’ बच्चों को आज तक नहीं समझ आया |

***पहली से बारहवीं तक के छात्रों का है यह हाल |
पता नहीं है ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |

***नीरू कहती मत होना बच्चों कभी परेशान |
‘कि’ और ‘की’ की स्थिति पहचानने में कभी मत खाना मात |

*** ‘कि’ से पहले आता है हमेशा क्रिया शब्द याद रखना यह बात |
‘की’ को हमेशा लगाना संज्ञा और सर्वनाम के बाद |

****** ‘कि’ *****

***’कि’ एक संयोजक शब्द है कहलाता |
जोड़ता दो वाक्य और वाक्यांशों को और अपना स्थान है बनाता |

***वाक्य बनाते समय बनता है अगर कोई प्रश्न |
वहाँ ‘कि’ लग जाता है |
मुख्य वाक्य को आश्रित वाक्य से जोड़ देता है,
और अपना स्थान बनाता है|

***पहले वाक्य के अंत में और दूसरे वाक्य के प्रारंभ में लग जाता है |
इसका प्रयोग विभाजन के लिए या के स्थान पर भी किया जाता है |

****** ‘की’******

***’की’ के बाद स्त्रीलिंग शब्द का प्रयोग किया जाता है |
संज्ञा और सर्वनाम का किसी से संबंध जोड़ना हो ,
तो वहाँ ‘की’ लग जाता है |

***दो शब्दों को जोड़ने और संबंध स्थापित करने का कार्य भी ‘की’ ही करता है |

****’ताले की चाबी खो गई’
उदाहरण से पूर्ण स्पष्ट हो जाता है |ताले और चाबी का संबंध ‘की’
लगाकर जोड़ा जाता है |

***अगर रखोगे हमेशा यह बातें याद कभी नहीं भूलोगे ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |

***छात्रों कभी भी न होना निराश |
***’नीरू’ करेगी हमेशा सुगम
हिंदी व्याकरण का ज्ञान तुम्हारे लिए आसान |
कभी न भूलना ‘कि’ और ‘की’ का सही स्थान |
याद रखना और सुदृढ़ बनाना हिंदी व्याकरण का ज्ञान |

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
****ज्ञान के सागर से भर लो गागर****
* गागर 'मस्तिष्क' है कहलाता,* ***'हिंदी व्याकरण'*** **ज्ञान का सागर कहा है जाता** <<<<>>>> *** अध्यापिका हूँ बच्चों की परेशानी भांप जाती हूँ | कहाँ... Read more
हवा हूँ मैं !
मेरे अंदाज ही कुछ अलग हैं आज यहाँ, कल वहाँ- - - पता नहीं फिर कहाँ हूँ मैं! हवा हूँ मैं! कभी पेड़ों पर झूमती... Read more
बचपन कहाँ ?????
आज जिंदगी के उस मोड़ पर खड़ा हूँ मैं दुखी हूँ फिर भी ख़ुशी के लिए अड़ा हूँ मैं अच्छा था बचपन जिसे छोड़ चूका... Read more
ख्वाहिशों में खुद को उलझा के निकलती हूँ
ख्वाहिशों में खुद को उलझा के निकलती हूँ ज़िंदगी तिरे दर से में मुरझा के निकलती हूँ होते होते शाम के ये उलझ ही जाती... Read more