.
Skip to content

किस रूप में

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

मुक्तक

February 25, 2017

मानव माथे पड़ी लकीर कभी मिटती नहीं
फकीर माँगे देने से अमीरी घटती नहीं।
प्रभु न जाने किस भेष मे आ जाये द्वार,
दर्शन पा जीवन धन्य कभी नजर झुकती नहीं।।.
सज्जो चतुर्वेदी*****************किस रूप में.

Author
Recommended Posts
कभी माँ बनके मुझे प्यार दिया
कभी माँ बन के मुझे प्यार दिया कभी बेटी बन सत्कार किया नन्ही .. मुन्ही ..गुड़ीया ..बनकर कभी खुशीयाँ हमें अपार दिया कभी बहन बनी... Read more
*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*
कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी , कभी बहन तो कभी बेटी है नारी । मत समझना नारी को कमजोर , साक्षात् शक्ति का... Read more
आखिर कौन हूँ मैं ???
आखिर कौन हूँ मैं ??? कितने नकाब ओढ़ रखे है मैंने हर पल बदलता रहता हूँ--- मै हर क्षण बदलने वाला व्यक्तित्व हूँ मेरा रूप... Read more
वैश्या
एक नया रूप नारी का देखो कभी थी बेटी  किसी आँगन की जो बिक गयी  दानव के हाथो एक नया रूप  मानव का देखो कोठे... Read more