Jan 8, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

किस ओर

किस ओर जाये हम, सूरजमुखी सम संदेश देते हम,
या खुद को छुईमुई समझे हम, एक तर्जनी से मुरझाए हम.
चट्टान पर्वतों की उठे ज्वार मखमल सी सौगात हम,
उठे गगनचुंबी लेकर सप्तरंगी इंद्रधनुषी क्षितिज हम.
बने तूफान पैर जमीं पर छू ले आकाश हवा केवल नहीं हम.
कड़कती बिजली मेध सी गर्जन बिन बरसात रह गये हम.
धरा से उठते वाष्प बनकर छाप कुहरा छाप इंसान हम.
कहीं पर समर्थन विरोध कहीं पर सजीव प्राणी हम.
पानी में जलचर, तल पर तुला, आकाश में पंथी, सब पर हम.
हठ कैसी कौन राजयोग, धरा फटे आई सुनामी वामें लीन,
जरा से उद्भव जटायु स्तन विलुप्त अण्डज, बन जीये कीट हम.

3 Likes · 4 Comments · 14 Views
Copy link to share
Mahender Singh Hans
329 Posts · 15k Views
Follow 5 Followers
निजी-व्यवसायी लेखन हास्य- व्यंग्य, शेर,गजल, कहानी,मुक्तक,लेख View full profile
You may also like: