.
Skip to content

किस्से पुराने याद आये है।

Saurabh Purohit

Saurabh Purohit

गज़ल/गीतिका

July 20, 2016

आज किस्से फिर पुराने कुछ याद आये है,
कुछ तज़ुर्बे है जो फिर लिखाये गए हैं

घर की दीवारों को शीशे में बदला क्या मैंने,
हर एक हाथ से ही पतथर उठाये गए हैं।

हकीकत तो वही थी पर दिल ने ना मानी,
झूठ के पैवंद यहाँ सिलवाये गए हैं।

समझ सकते तो नज़रो से ही समझ जाते,
क्यों ये ज़ज़्बात डायरी में लिखाये गए हैं।

रखा है संभाले वो कागज़ आज तलक,
जिसपे दस्तखत ज़मानत के एवज़ कराये गए हैं।

खतायें तो दोनों तरफ बराबर ही रही थी,
फिर क्यों हर बार हम ही समझाये गए हैं।

तमन्नाओ की कब्र तो पुरानी ही थी,
कुछ नए ख़्वाब भी इसने दफनाए गए हैं

किसी को भी न छोड़ा हाय किस्मत तूने,
तेरे इशारे पर सारे ही नचाये गए हैं…।

Author
Saurabh Purohit
Saurabh purohit M.B.A from Jhansi working in Delhi.
Recommended Posts
शब्द पानी हो गए
छोड़कर हमको किसी की जिंदगानी हो गए ख्वाब आँखों में सजे सब आसमानी हो गए प्रेम की संभावनाएँ थीं बहुत उनसे, मगर, जब मिलीं नजरें... Read more
||पुराने प्रेम की दस्तक ||
“सालों लगे भुलाने में तुमको फिर से याद तुम क्यूँ आये हो पत्थर दिल कर गए थे जिसको उससे मंदिर नए बनाये है , यादों... Read more
!! तेरी याद !!
आज तेरी याद आ गयी पास मेरे हम उस को सीने से लगा कर बहुत रोये जब वो याद को थोडा सकूंन मिला तो हम... Read more
#विरोधाभाषी परिभाषाएं
?? विरोधाभाषी परिभाषाएं ?? ?????????? *वो दाता हम दीन हो गए, ज्यों भारत को चीन हो गए।* *रसगुल्लों के बीच सड़ी-सी, हम कड़वी नमकीन हो... Read more