किस्सा / सांग - # सरवर - नीर # & टेक - चालै तै मेरी साथ मै तनै दुनिया की सैर कराऊ।

किस्सा – सरवर-नीर # अनुक्रमांक -19 #
वार्ता – जब सौदागर अमली राणी को कहता है कि मेरे साथ जहाज मे चलोगी तो मै तुमको कहा-कहा की सैर कराऊंगा।

चालै तै मेरी साथ मै तनै दुनिया की सैर कराऊं….टेक

इंडिया का द्वीप दिल्ली कानपुर गाजियाबाद
पलवल होडल शकररोड़ी शाहजापुर चलैंगे आज
आगरा बरेली मेरठ लखनऊ डटै ना जहाज
ऋषिकेश हरिद्वार अयोध्या बसरा ओर झांसी देखै
गोकुल मथुरा ओर मधुबन बिंदराबण के वासी देखै
बिन्ना कटली इलाहाबाद पिरागराज ओर कांशी देखै
उडै नहाइए गंगे मात मै तनै सेती चाल नुहाऊं….

देहरादून चम्बल घाटी बनारस भोपाल इंदौर
जबलपुर ग्वालियर उज्जैन शहर भी देखां और
बांदीकुई पाणी तोल्ला मारवाड पुष्गर नागौर
जयपुर तै अजमेर देखै जोधपुर तै जैसलमेर
माधोपुर चितौड़ भरतपुर कोटा बूंदी बीकानेर
आभु सुरत और बडोदा अहमदाबाद चलैंगे फेर
सोमनाथ गुजरात मै तनै गांधीधाम पूंहचाऊं…

गोरखपुर तै शहर गयाजी मुगलसरा पटना बिहार
संभलपुर तै राऊरकेला कटक और कटिहार
भुवनेश्‍वर जगन्‍नाथपुरी रामेश्‍वर और बद्रीकेदार
दमन दीव गोवा कर्नाटक दादरा हवेली गाम
बंबई सितारा पुना कोल्हापुर नै रस्ता आम
नागपुर भुसावल नासिक मै रहै थे सीताराम
पंचवटी देहात मै फेर चित्रकुट नै जाऊं….

निकोबार द्वीप समूह पांडिचेरी और मद्रास
हैदराबाद विशाखापटनम पिलिभीत शहर बिलास
कलकत्ते तै शिल्लीगोड़ी रंगीया शहर गुहाटी खास
कश्मीर लद्दाख नेफा सिंधु मानसरोवर ताल
पाकिस्तान भुटान कोरिया बांग्लादेश और नेपाल
फेर मक्का शरीख जंजीरा सिंगलद्वीप दिखाऊं चाल
राख समाई गात मै हुरां तै आज मिलाऊं….

आस्ट्रेलिया रजान टोकिया वियतनाम बिंदुशाहबाद
हांगकांग फ्रांस इटली लंका अरब देश आजाद
फिर काबुल कंधार एशिया रुस चीन बसरा बगदाद
हेलन कोलन तुर्की फिर्की अमरीका जर्मन जापान
पैरिस पिंकी सफरपोलिया लंदन से ईराक ईरान
रुमशाम रंगून देखिए बर्मा और बिलोचिस्तान
गोरयां की विलात मै तनै मैम दिखाके ल्याऊं….

शाखा चिल्ली चौक डेनिया झंगशाला विक्टौर देखै
मियांवाली रावलपिंडी करांची तै लाहौर देखै
शिमला और संगरुर भठिंडा फाजिल्का अभौर देखै
अमृतसर जालंधर जम्मू लुधियाणा फिरोज पनिहार
अंबाला पटियाला नाभा बरवाला हांसी हिसार
जिला भिवानी तसील बुवानी फेर लुहारी श्रुति धार
उडै गोड़ ब्राह्मण जात मै तनै राजेराम दिखाऊ।

रचनाकार :- कवि शिरोमणि पंडित राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य जो गंधर्व अवतार सूर्यकवि पं.लख्मीचंद प्रणाली के प्रसिद्ध सांगी कवि शिरोमणि पं. मांगेराम जी के शिष्य है।

संकलनकर्ता :- संदीप शर्मा
(जाटू लोहारी, बवानी खेड़ा, भिवानी-हरियाणा )
सम्पर्क न.:- +91-8818000892 / 7096100892

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 158

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share