Skip to content

किस्सा / सांग – # चापसिंह – सोमवती # अनुक्रमांक – 31 # & टेक – बादशाह आलम, जहांपना मुगलेआज़म, मुजरा करूंगी सलावालेकम मेरी दुहाई, सुणो पनाह इलाही, नृत करने आई मै चाहती हुकम।

लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

कविता

August 5, 2017

किस्सा / सांग – # चापसिंह – सोमवती # अनुक्रमांक – 31 #

वार्ता:-
सज्जनों! सोमवती के नाचने गाने पर सब सभा खुश हो जाती है और बादशाह कहता है कि तुम आज कुछ भी इनाम मांग लो। सोमवती कहती है कि मुझे कुछ इनाम की जगह कुछ और चाहिए। वह कहती है कि आपकी सभी मे मेरा एक चोर है मुझे मेरा चोर चाहिए वो चोर कोई और नहीं शेरखा पठान है और फिर सोमवती शाहजहाँ से क्या दुहाई करती है।

जवाब:- सोमवती का शाहजहाँ से । रागणी:- 31 – बहरे-तबील

बादशाह आलम, जहांपना मुगलेआज़म, मुजरा करूंगी सलावालेकम
मेरी दुहाई, सुणो पनाह इलाही, नृत करने आई मै चाहती हुकम। । टेक।

परेशानी मेरी, दुख की कहानी मेरी, जिन्दगानी मेरी मै आया भुकम,
शेरखांन है, पापी इंसान है, बेईमान है उसने किया जुलम।।

देता है गाली, मनै कहता चडांली, बोल्या बण घरआली ना करूंगा ख़तम
धन लुटया मेरा, दिल टूटया मेरा, घर छुट्या मेरा रूस्या बलम।।

रहीं सत पै डटी, फेर भी घटना घटी, ना महलम पट्टी इसा बोल का जख्म,
विनती करू, के जीवती फिरू, टककर मार मरू इसनै गुजारे स्तम।।

मै गरीब लुगाई, जोड़ी थी पाई-2, मेरी सारी कमाई करग्या हजम,
राजेराम गवाह, होगा दरगाह मै न्या, बोलूंगी झूठ ना खुदा की कसम।।

Share this:
Author
लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |
संकलनकर्ता :- संदीप शर्मा ( जाटू लोहारी, बवानी खेड़ा, भिवानी-हरियाणा ) सम्पर्क न.:- +91-8818000892 / 7096100892 रचनाकार - लोककवि व लोकगायक पंडित राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य जो सूर्यकवि श्री पंडित लख्मीचंद जी प्रणाली से शिष्य पंडित मांगेराम जी के शिष्य जो... Read more
Recommended for you