23.7k Members 50k Posts

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--22

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की***
***जय हो श्री नंदलाल जी की***

किस्सा–चन्द्रहास

अनुक्रम–22

वार्ता–विषिया श्रृंगार करके महल के छज्जे पर खड़ी होती है,और चंद्रहास के आने का इन्तजार करती है।उसके रूप शौंदर्य का वर्णन कवि ने किया है।

टेक-करकैं नै श्रृंगार नार,हार गळ डार,भरी मांग को सुधार,
बाहर छ्ज्जे पै खड़ी।

१-लख केश शेष छुपै भय से,कवि छवि कह सकते कैसे,
जैसे खिली हुयी धूप,सुन्दर रूप था अनूप,देखणीये हुये बेकूप,चूंप दशन मैं जड़ी।

२-भेष देख सकुचावै शची,गोल कपोल भृकुटी खंची,
रची अधरों पै लाली,गोल पूतली थी काली,मतवाली आली चाली,ठाली विधि नैं घड़ी।

३-चितवन मन दृग असि,जैसे सुर पुर मैं उर्वशी,
एक बै हंसी मंद मंद,देख कैं आवै था आनंद,अरविंद पै मकरंद,गंध पुष्प की हड़ी।

४-जो जन चरण शरण मैं रहते,जपते जाप ताप ना दहते,
गुरु कहते सर्वहाल, तत्काल नयी चाल, नंदलाल देते डाल, सुर ताल की झड़ी।

कवि: श्री नंदलाल शर्मा जी
टाइपकर्ता: दीपक शर्मा
मार्गदर्शन कर्ता: गुरु जी श्री श्यामसुंदर शर्मा (पहाड़ी)

1 Like · 44 Views
गंधर्व लोक कवि पंडित नंदलाल शर्मा
गंधर्व लोक कवि पंडित नंदलाल शर्मा
पात्थरवाली,भिवानी,हरि.
54 Posts · 4.1k Views
पंडित नंदलाल शर्मा,पात्थरवाली,हरियाणा के महान गंधर्व कवि हुए हैं। तत्काल रचना बनाना अौर श्रोताओं को...
You may also like: