.
Skip to content

किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गीत

August 11, 2016

लगाकर हौसलों के पर गगन छूकर दिखाना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

हमारा दिल बहुत कोमल भरा है प्यार ममता से
मगर आँका गया हमको न जाने क्यों विषमता से
न अब जज्बात में ही बह यहाँ जीवन बिताना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

बिछे हों अनगिनत काँटें हमारी राह में देखो
कमी फिर भी नहीं होगी हमारी चाह में देखो
चुभे ये लाख पैरों में मगर मंजिल को पाना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

सुलगने सी लगी दिल में नई चिंगारियां कितनी
हमारे साथ देने ही चली हैं आँधियाँ कितनी
नहीं अब फूल रहना है, हमें बन आग जाना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

करेंगे सच सभी अपने यहाँ देखे हुये सपने
नहीं मुँह मोड़ लेंगे पर कभी कर्तव्य से अपने
हमें संतान को देना गुणों का ही खज़ाना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है

बिना नारी अधूरा नर तो नारी भी अधूरी है
न होते साथ दोनों गर ख़ुशी कोई न पूरी है
बताओ ‘अर्चना’ फिर क्यों किसी इक का जमाना है
किसी से कम नही नारी जमाने को बताना है
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
*=* नारी शक्ति को समर्पित *=*
नारी न कहिए उसको बेचारी। नही है बेबस न कोई लाचारी। पुरुष को देना छोडो़ दोष। वह नहीं है अत्याचारी। बुराई तो छिपी है खुद... Read more
नारी तेरे  रूप अनेक
परमात्मा की सबसे प्यारी कृति है नारी। नारी में निहित की उसने जग की शक्तियाँ सारी।। ईश्वर ने ह्रदय दिया है उतना ही कोमल। जितनी... Read more
वैश्या
एक नया रूप नारी का देखो कभी थी बेटी  किसी आँगन की जो बिक गयी  दानव के हाथो एक नया रूप  मानव का देखो कोठे... Read more
स्त्री
स्त्री महिला सशक्तिकरण, अबला नारी, नारी शक्ति पहचानो । कुछ अजीब सा लगता है मुझे ये सब । आज की नारी और पहले की नारी,... Read more