मुक्तक · Reading time: 1 minute

किसी के दिल की जबां हिचकियाँ बोल रही है

किसी के दिल की जबां हिचकियाँ बोल रही हैं
एक अहसास की हवा खिड़कियाँ खोल रही हैं
***********************************
न मुमकिन भी नही अब पहुँचना उस तलक
रूह उसी की तो अब नजदीकियाँ टटोल रही है
***********************************
कपिल कुमार
08/10/2016

62 Views
Like
154 Posts · 7.8k Views
You may also like:
Loading...