किसान

धरती को माने माता,नित्य ही शीश नवाता,सबका ही अन्नदाता,देश का किसान है।
रखता माटी से नाता,उससे सोना उगाता,पेट सभी का भरता,सबसे महान है ।
कड़ी धूप में जलता,सदा शीत में पिसता,तन को होम बनाता,झेलता तूफान है।
सबकी भूख मिटाता,खुद भूखा रह जाता, व्याकुल हो अकुलाता,गिरवी मकान है ।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 1 Comment · 20 Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: