Skip to content

किसान (रागनी)

सतीश चोपड़ा

सतीश चोपड़ा

कविता

July 29, 2017

क्यूकर मनाऊँ तीज पींग फांसी का फंदा दिखै सै
दब्या कर्ज तळै हार पेड़ पै किसान लटकता दिखै सै

बखते लिकडै काम की ख़ातर ठेठ खेत में पावैं सै
जब तक लिकड़ै सूरज बैरी वो आधा खेत नुलावैं सैं
खड़ा डोळे पै बाट रोटी की वो ठा ठा एडी देखै सै

सारा साल खटै खेत मैं वो आपणै हाड गलावै रै
इबकै दाणे चोखे होज्यां नयूं सोचै कर्ज चुकावै रै
जै ना बरस्या इबकै मीह तै माटी रेह रेह दिखै सै

सारी पूंजी ला दी फेर भी काम खेत का चाल्लै ना
मंडी मैं जब जावै जीरी पूरा दाम मिल्लै ना
जो उगावै उस्से कै घरनै माँ खाली चाकी पीसै सै

बेरा ना कद आवैगा वो बाट बखत की देखां साँ
होज्यां स्याणें भाई सारे चाल जगत की देखां साँ
नहीं किसे का गुलाम चोपड़ा सच्चाई नै लिखैे सै

Author
सतीश चोपड़ा
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय... Read more
Recommended Posts
किसान की दशा
उठ सवेरे मुंह अंधेरे पकङे दो बैलोँ कि डोर,वो जाता खेतोँ कीओर खुन के आंसू सोखता किसान,वो खेत जोतता किसान! भूख ओर पयास मेँ,जिने की... Read more
मै न्यू जाणु सु तू कितना प्यार करे सै/मंदीप
मै न्यू जाणु सु तू कितणा प्यार करे सै, तेरा दिल भी तो मेरे पै ही मरे सै। जबै भी आवे मेरी आँख्या में पाणी,... Read more
भक्ति और तपस्या करणा आपा मारे हो सै
पं नंदलाल जी की एक बेहतरीन रचना.... टेक-भक्ति और तपस्या करणा आपा मारे हो सै, घर बसणे की रीत जगत मै सोच विचारे हो सै।... Read more
गऊ माता पर कलयुग का कहर
कलयुग के म्हां पाप बढे और गऊ का मान रह्या कोन्या ! कित सोगे म्हारे हिन्दुस्तानी , वो हिन्दुस्तान रह्या कोन्या !! १ . गऊ... Read more