.
Skip to content

किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

May 3, 2017

सरकारी कारण लुटौ खूब कृषक कौ धान
रह गयौ बिना रुपैया, धान कौ हाय बुवैया |
दरवाजे पे कृषक के ठाडौ साहूकार
ब्याज के बदले भैया, खोलि लै जावै गैया |
करें खुदकुशी देश के अब तौ रोज किसान
न कोई धीर धरैया , कर्ज में डूबी नैया |
आलू-गेंहू सड़ गये बेमौसम बरसात
कृषक के दैया-दैया, उड़ि रहे प्राण-पपैया |
छीनौ भूमि किसान से, है सरकारी शोर
कृषक के दुःख पर भैया, सेठ की ताताथैया |
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
हाईकु-एकादश
हालातों की जब भी बात हुई किसान की हालत किसी से छिपी नही है इतिहास बताता है विदेशियों के आने के पूर्व यहाँ सभी कुछ... Read more
?किसानो की लाश देख व्यथित मन से निकले सब्द,,,,?
??किसानो की लाश देख व्यथित मनु के मन से निकले सब्द,,,,?? ये भारत मप्र के इतिहास का काला दिन हो जायेगा,,,, किसान की मौत और... Read more
महीना आयौ सावन कौ
लोकगीत ------------- * महीना आयौ सावन कौ * ********************** झूला आँगन में डरवाय दै भरतार, महीना आयौ सावन कौ । - आसमान में घिरी बदरिया... Read more
काश मुझमें भी होता हुनर लाखों कमाने का
काश मुझमें भी होता बिना खून-पसीना बहाये एकड़ भर ज़मीन से लाखों कमाने का हुनर और बन जाता मैं भी वो अखबारी कृषक पर मैं... Read more