.
Skip to content

किससे कहूँ और कैसे कह दूँ?

शिवम राव मणि

शिवम राव मणि

शेर

November 4, 2017

**************************************
किससे कहूँ और कैसे कह दूँ? कि वो नाराज़ है
मेरे अन्दर ये लाज, आखिर कब तक रहेगी?

**************************************

कोई खास मुझे मिले वक्त तन्हा, तो कह दूँ मैं मगर
तमाश के जुबाने नाराजगी, किस्से-ए-कदर की अच्छी नहीं लगेगी

यहाँ किस आवाज मे बिखर जाऊँ? या शोर को होता देख लूँ
गया जो सामने ”शर्म” से ताज, आखिर कब तक रहेगी?

**************************************

गलीचा ओढ़ने से अगर सब कुछ होता, तो क्यूँ कहता मै?ं
गलीचे में बारिश होती अगर अदा की, तो नूर क्या कहेगी?

माना कि रूप को देखने की हिमाकत, नहीं है मुझमें
तो ये झूठी चादर की नमाज, आखिर कब तक रहेगी?

**************************************

भटका हूँ इस तरह कि भूला हर मर्ज, हर तोबा-ए-अतीत
कहाँ बेठी रह गयी सादगी? कहाँ तक आवारगी कदम बढ़ाएगी?

वो अदब, वो रहम, क्या काज कर चली मुझ पर
मुझसे लिपट गयी जो आज, आखिर कब तक रहेगी?

************************************-*

उनके आगोश में रहना इतना हासिल हुआ, कि कह दिए इस कदर
खुदा ने तो मौत तय करा दी, मगर रहनूमा, जान-ए-उम्र और कितनी बढ़ेगी?

किससे कहूँ और कैसे कहूँ? कि वो सितार के साज हैं
उन पर थिरकती उंगलियों की मिराज, आखिर कब तक रहेगी?
–शिवम राव मणि

Author
Recommended Posts
नाम कैसे दे दूँ!
तेरे मेरे सपने ... अपने प्यार को सपना नाम कैसे दे दूँ सपने तो अक्सर अधूरे ही रह जाते है अपने प्यार को धड़कन कैसे... Read more
!! आखिर कब तक !!
कोई तो सीमा होगी कि तुम्हारे आने का वो समां कब आएगा और इन आँखों का इन्तेजार खत्म हो जाएगा कब तक , यह बताओ... Read more
उपमा
तुझे उपमा दूँ तो आखिर किसकी उपमा से भी तू अनुपम अनुपमता में हीं मैं भटका कैसे करूँ , मैं तेरा वर्णन ।। बर्फ के... Read more
कह दूँ अगर...
कह दूँ अगर इक-बात तो नाराज तो न होगे... जाम लेकर हाथों से तो न छलकाओगे, अपने अधरों से जिसे तुमने लगाया है, उस प्याले... Read more