Skip to content

किताब-ए-इश्क़

विनोद कुमार दवे

विनोद कुमार दवे

मुक्तक

October 3, 2016

किताब-ए-इश्क़ के हर पन्ने पर एक ही ख़ुशबू थी,
इबादत-इ-इश्क़ का कभी नूर नहीं जाता।
हवा उड़ा तो देती है सूखे हुए पत्तों को,
शज़र कभी जड़ो से दूर नहीं जाता।
*** ***

ज़िन्दगी इतनी हसीन तो नहीं,
पर तुम्हारे इन्तजार में जिए जा रहे हैं।
ज़हर कौन पीता है जानबूझ कर,
इक हम हैं जो शौक से पिए जा रहे हैं।
*** ***

हर शख़्स के अपने किस्से हैं, अपनी कहानियाँ,
यादें गमगीन दे जाती हैं, हसीन जवानियाँ,
‘दवे’ ये तन्हाई ये सूनापन हर किसी के नसीब में नहीं,
कई तूफानों के बाद आती है ये वीरानियाँ।
*** ***

Author
विनोद कुमार दवे
परिचय - जन्म: १४ नवम्बर १९९० शिक्षा= स्नातकोत्तर (भौतिक विज्ञान एवम् हिंदी), नेट, बी.एड. साहित्य जगत में नव प्रवेश। पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित।अंतर्जाल पर विभिन्न वेब पत्रिकाओं पर निरन्तर सक्रिय। 4 साझा संकलन प्रकाशित एवं 17 साझा संकलन प्रकाशन... Read more
Recommended Posts
नहीं जाता।
कुछ रिश्ते साथ होकर भी,याद नहीं आते कुछ दूर हो फिर भी, भुलाया नहीं जाता। ये इश्क हर किसी को रास आए,सच नहीं कोई नहीं... Read more
ग़ज़ल :-- आज़माइश नहीं करते !!
ग़ज़ल -- आजमाईस नहीँ करते !! अनुज तिवारी "इंदवार" आशिको की कभी आजमाइस नहीं करते ! आशिकी में कोई फरमाइस नहीं करते ! इश्क कभी... Read more
मेरे बारे में.....
मेरे बारे में कोई तो राय उनकी भी होगी उसने भी कभी मोहब्बत की तो होगी। नहीं चाहते हम इम्तेहाँ और इश्क़ में इम्तहाँ ए... Read more
इश्क़
जब भी बैठता हूँ कुछ लिखने डूब जाता हूँ उनकी यादों के समंदर में मदहोश कर देती हैं उनकी यादें क्यूंकि.... इश्क़-ए-मौहब्बत की स्याही अब... Read more