कितनी देर लगती है।

एक पल में लोग बदल जाते हैं,
” आप ” से ” तुम ” फिर ” तुम कौन ” तक चले जाते हैं,
वक्त चलता है अपने हिसाब से,
कितनी देर लगती है वक्त बदलने में!
-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+-+++-+-+-+
बुरा दौर है मेरा कर लो ठिठोली मूझपर,
समय का मारा हूं दिमाग का नहीं,
आऊंगा तो झूम के फिजा में,
कितनी देर लगती है दौर बदलने में!!!

Like 1 Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share