.
Skip to content

कितना खूबसूरत जहाँ है

प्रतीक सिंह बापना

प्रतीक सिंह बापना

कविता

March 19, 2017

मैं हरे बाग देखता हूँ, लाल गुलाब भी
खिलते हुए उन्हें तेरे और मेरे लिए
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

मैं नीला आसमान देखता हूँ, सफ़ेद बादल भी
उजला जगमगाता दिन और गहरी अंधरी रातें
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

इंद्रधनुष के सुन्दर रंग आसमान में बिखरे हुए
चेहरे भी लोगों के ऐसे ही रंगों में गुज़रते हुए
दोस्त मेरे मेरा हाथ मिलाकर हाल चाल पूछते हैं
पर शायद ये कहते हुए कि वो मुझे चाहते हैं

मैं बच्चों का रोना सुनता हूँ, उन्हें बढ़ते हुए भी
वो कुछ इतना सीखते हैं कि मैं जीवन में भी ना सीख पाऊँ
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है
हाँ, मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

–प्रतीक

Author
प्रतीक सिंह बापना
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
आशियाना ढूंढता हूँ
उड़ता फिरता हूँ बादलों की तरह, मैं रास्तों से मंजिल का पता पूछता हूँ, कही खो सी गयी हैं मेरी खुशियाँ, मैं अपनी खुशियों का... Read more
मेरे जज्बात
मेरे जज्बात ********* जब भी देखता हूँ मैं तुझे मेरा दिल भर आता है कितनी खुशमिजाज है तू कितनी खूबसूरत है तू कितनी दिलकश है... Read more
**मेरा मसीह**
मेरा मसीह** ***** मैं जो भी करता हूँ, मेरे फ़रिश्ते के कहे ,अनुसार करता हूँ क्या लाभ होगा, मैं नहीं सोचता "मैं" वो करता हूँ... Read more
मुक्तक
कई बार वक्त का मैं निशान देखता हूँ! कई बार मंजिलों का श्मशान देखता हूँ! दर्द की दहलीज पर बिखरा हूँ बार-बार, कई बार सब्र... Read more