Skip to content

काश….

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कविता

February 24, 2017

एक पत्नी का होना भी ज़रूरी है
जीवन में/ऐसा मुझे लगता है
पल-प्रतिपल/क्योंकि कुछ बातें ऐसी
होती हैं ज़िन्दगी में
जिन्हें बहन तो क्या
माँ से भी साझा
नहीं किया जा सकता/
सिर्फ़ और सिर्फ़
जीवनसंगिनी से ही
बयां किया जा सकता है
उन्हें/पर अफ़सोस…
मेरे पास नहीं
जीवनसंगिनी/
हाँ,बहनों का ताँता लगा है
मेरे जीवन में
और यह संख्या
दिन-ब-दिन बढ़ रही है
अन्चीन्हे रिश्ते की तरह
काश! कोई तो मिले
जो यह कह सके कि
मैं प्रस्तुत हूँ
बनने जीवनसंगिनी
न सिर्फ़ खुशियाँ
वरन् बाँटने
दर्द आपका
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Author
Recommended Posts
तुम हो तो..................
तुम हो तो सब कुछ है तुम हो तो सपने हैं तुम हो तो बहुत से रिश्ते अपने हैं तुम हो तो सपनों के रंग... Read more
“काश” (विवेक बिजनोरी)
“काश कोई जुल्फों से पानी झटक के जगाता, काश कोई ऐसे हमको भी सताता काश कोई बतियाता हमसे भी घंटो, काश कोई होता जो तन्हाई... Read more
मेरे राधा रमण सरकार
जिंदगी की केन्वॉश पर हर उभरता रंग, सिर्फ तेरी वजह से है मेरे राधा रमण सरकार ।। देहरी के दीपक मे चमक , जुगनु मे... Read more
काश! पुनः लौटें दिन...
चिट्ठियाँ नहीं आतीं अब अपनों की आते हैं कॉल औपचारिकता निभाने जबकि चिट्ठियाँ सिर्फ़ सम्बन्ध निभाने का जरिया नहीं अपितु परिचायक होती थीं कि लिखी... Read more