.
Skip to content

काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

प्रतीक सिंह बापना

प्रतीक सिंह बापना

कविता

December 29, 2016

कक्षा की खिड़की से बाहर मैंने आज
उसे खड़े देखा कुछ परेशान सा
चेहरा था वो कुछ अनजान सा
कुछ खोजता हुआ, उधेड़बुन में लगा
वो चेहरा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

दिन बीत गए कई उसे देखे बिना
आज वो दिखी एक बस स्टॉप पे
और मैं उस चेहरे को तकता रहा
वो चेहरा गुलाबों सा गुलाबी
वो चेहरा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

आज मुझे देख वो मुस्कुराई
हल्की सी आवाज़ में उसने
मुझे आवाज़ लगाई
उस दिन हमने साथ में सफ़र किया
वो कुछ कहती रही, और मैं सुनता रहा
दिन ऐसा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

दिन गुज़रते गए, अब हम दोस्त बन गए
वक़्त गुज़रता रहा, हम साथ चलते रहे
मैं बस उसकी आवाज़ सुनना चाहता
वो चिड़िया सी प्यारी चहचहाट
आवाज़ वो जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

आज वो ये शहर छोड़ कर जा रही है
उसकी क़िस्मत उसे कहीं और बुला रही है
मैं मौन खड़ा हूँ अपने जज़्बात दबाये हुए
आंसुओं को आँखों में छिपाये हुए
क्योंकि वो जानती नहीं थी पर
वही तो थी वो लड़की जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

— प्रतीक

Author
प्रतीक सिंह बापना
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
वो रास्ता.....(पियुष राज)
वो रास्ता... जिस रास्ते से गुजरती थी वो वो रास्ता मुझे उसकी याद दिलाता है जब भी गुजरता हूं उस रास्ते से तो उसका चेहरा... Read more
दिल की कर लेने दे
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?दिल की कर लेने दे? आज मुझे भी जीभर कर रो लेने दे,,,, दिल के दर्द को आज कह लेने दे,,,, मेरे गम ए दर्द... Read more
एक चेहरा नजर आया
~~~~एक चेहरा नजर आया~~~~ हदों की हद लकीरें, लाँघनी कितनी आसान थी लाँघकर देखा, तो एक चेहरा नजर आया ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ कोई टोके मुझे इस तरह,... Read more
मेरा साया
???? खामोश एहसासों में एक धुंधला सा चेहरा उभरता है। तू जिन्दगी है मेरी, आके हाउले से मेरी कानों में कहता है। उसकी एक छुअन... Read more