.
Skip to content

काश मुझमें भी होता हुनर लाखों कमाने का

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

कविता

July 19, 2017

काश
मुझमें भी होता
बिना खून-पसीना बहाये
एकड़ भर ज़मीन से
लाखों कमाने का हुनर

और बन जाता मैं भी
वो अखबारी कृषक

पर मैं तो बना रहा
बरसों से वही
लुटा-पिटा किसान
जो 4-6 महीने
जी-तोड़कर
खून-पसीना एक कर
रात-दिन मेहनत करता है

और अंत में फिर भी
नहीं बेच पाता है अपनी फसलें
समर्थन मूल्य पर भी

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
मुक्तक
काश तुमसे चाहत को बोल पाता मैं भी! काश गाँठें लफ्जों की खोल पाता मैं भी! ठहरी हुई निगाहें हैं मेरी पत्थर सी, काश तेरी... Read more
*मुक्त-ग़ज़ल : रावण भी रहता है मुझमें !!
तू क्या जाने क्या है मुझमें ? सिंह है या चूहा है मुझमें !! इत सीतापति बसते हैं उत , रावण भी रहता है मुझमें... Read more
? ग़ज़ल-१ ?
एक खयाल ...... _______________________ कौन गया यूँ आकर मुझमें; इत्र निरा फैलाकर मुझमें..!! _______________________ रस्ता भूल न जाये कोई ; रख दो दीप जलाकर मुझमें..!!... Read more
नए वर्ष का उद्गम
पँख लगे हैं मुझमें देखो, मैं आसमान में उड़ जाऊँगा। इस नए वर्ष के अद्गम को मैं अपना शीश झुकाऊँगा। जल की धारा की तरह,... Read more