काव्य/व्यंग्य: नेताओं से यारों होता गदहा महान है ।

चंद नेताओं से यारों होता गदहा महान है ।

चंद पैसो के लिए बेचता नहीं अपना ईमान है ।

कौन कहता है हमारे देश में महंगाई बहुत है ।

चंद पैसों में बिकता यहां नेताओं का जमीर है ।

शाश्वत सत्य है कि लोकतंत्र में जनता होता महान है ।

पर सियासी लोगों के चालाकी से होता सब अनजान है ।

फूट डालो शासन करो, सबमें सक्रिय होती राजनीति है ।

समझो या ना समझो, यहीं भारत की बर्बादी, उनकी काली नीति है ।

आपस में मत कर लड़ाई, रक्तरंजित होती माँ भारती है ।

आपस में कर लड़ाई, सियासतदारों की होती खातेदारी है ।

जाति, धर्म, भाषा चाहे हो मजहब सबमें सक्रिय होती भागीदारी है ।

इसके फंसाने में अब नहीं है आना, यहीं तो हमारी जिम्मेदारी है ।

राजन कुमार साह “साहित्य”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share