.
Skip to content

काले मेघा जब तुम आना

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गीत

March 31, 2017

काले मेघा जब तुम आना
छत पर मेरी भी आ जाना
अपनी शीतलता से कुछ तो
इस तन मन की अगन बुझाना

नफरत की जो धूप सही है
बेल प्रेम की सूख रही है
हरा भरा करने ही उसको
नेह भरा अमृत बरसाना
काले मेघा जब तुम आना

बात पुरानी याद दिलाती
तन्हाई यूँ मुझे सताती
गरज गरज कर थोड़ा सा तो
मेरी खातिर इसे डराना
काले मेघा जब तुम आना

आँखों से सागर सा बरसे
जीवन खुशियों को ये तरसे
इंद्रधनुष के रँग बिखरा कर
बूंदों के तुम राग सुनाना
काले मेघा जब तुम आना

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
कहां लुप्त हो गई है अब, बहती सरिता की अविरल धारा || नदी किनारे रहने वाले जीवों का, दुविधा में हो गया जीवन सारा ||... Read more
तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //
तुम सुबह शाम की ईबादत हो मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो कोई नहीं जहां में यारा तुम सा सच में तुम इतनी खूबसूरत हो तुम्हें पाके... Read more
मेरा साथ निभाना तुम
?मैं बसंत हूँ,मेरी बहार बन जाना तुम। मैं सूरज बनूँ तुम्हारा,मेरी किरण बन जाना तुम। बन के मेरे जीवनसाथी मेरा साथ निभाना तुम। जब लडख़ड़ाहूँ... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more