Skip to content

कारगिल विजय दिवस

Ramesh chandra Sharma

Ramesh chandra Sharma

कविता

July 26, 2016

कारगिल विजय दिवस पर…….

हवा का रुख किधर होगा सही पहचानते हैं हम
वही करके दिखा देते जो मन में ठानते हैं हम।
वतन का कर्ज़ है हम पर हमारे खूं का हर कतरा
इसे कैसे चुकाना है ब खूबी जानते हैं हम। –आर.सी.शर्मा “आरसी”

Author
Ramesh chandra Sharma
गीतकार गज़लकार अन्य विधा दोहे मुक्तक, चतुष्पदी ब्रजभाषा गज़ल आदि। कृतिकार 1.अहल्याकरण काव्य संग्रह 2.पानी को तो पानी लिख ग़ज़ल संग्रह आकाशवाणी कोटा से काव्य पाठ कई साहित्य सम्मान एवं पुरुस्कारों से सम्मानित
Recommended Posts
**** हाँ बड़े जज़्बाती हैं हम ****
*************** हां बडे जज़्बाती हैं हम क्योंकि भारतवासी है हम ईद मनाया होली मनाई और गये सब भूल हां बडे जज्बाती हैं हम क्योंकि भारतवासी... Read more
वतन की खातिर
कारगिल विजय दिवस पर......आपकी नज़र. शहीदों की अनमोल धरोहर संभालो वतन की खातिर ही वतन को बचालो *************************** उठो जाति मजहब सियासत से ऊपर चूम... Read more
कारगिल विजय दिवस पर
पाकियों को पकड़ पकड़ पीस डाला ऐसे जैसे कोई चटनी सी पीस डालें सिल में । हौसला बुलंद जैसे मत्त से गयंद सारे शत्रुओं को... Read more
गुरू चरण सीखें सभी
बैठ कर हम गुरू चरण सीखे सभी मान दे कर गुरू को सदा पूजे सभी ज्ञान की नई विधा सीख लें रोज हम आज शिक्षक... Read more