.
Skip to content

कारगिल विजय दिवस पर

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

July 27, 2017

पाकियों को पकड़ पकड़ पीस डाला ऐसे
जैसे कोई चटनी सी पीस डालें सिल में ।
हौसला बुलंद जैसे मत्त से गयंद सारे
शत्रुओं को कुचल बिछाया तिल तिल में।
सौ सौ बार नमन शहीद रणबांकुरों को
जिन्होंने जिताया जंग टाईगर हिल में।
धन्य हैं वे वीर माता पिता जिनके है धन्य
देशहित बलिदान हुए कारगिल में।

Author
guru saxena
Recommended Posts
मेरा प्यारा असम
चारो ओर है हरियाली छाई जहाँ पहाड़ों से निर्झर बहती तरह तरह के जाति-जनजाति भिन्न-भिन्न धर्म और संस्कृति फिर भी अटूट एकता यंहा की ,... Read more
ब्रज की रज
सवैया (ब्रज की रज) ब्रज के वन बाग तड़ाग हैं धन्य जहाँ जन्मे श्रीकृष्ण कन्हाई धन्य धरा वह धन्य कदंब जहाँ मुरली घनश्याम बजाई जो... Read more
कारगिल विजय दिवस
कारगिल विजय दिवस पर....... हवा का रुख किधर होगा सही पहचानते हैं हम वही करके दिखा देते जो मन में ठानते हैं हम। वतन का... Read more
सच की राहें
यह किसने कह दिया कि सच की राहें मुश्किल है ? जबकि झूठ और फरेब से कुछ भी नहीं हासिल है । बहक जाते ,कुछ... Read more