**कामयाबी**

यूँ ही मिलती नहीं मुफ़्त में कामयाबी !
एक जुनूँ सा दिल में जगाना पड़ता है !
लाख अँधेरे हों चाहे राह में तो क्या !
उम्मीद का दिया दिल में जलाना पड़ता है !
लग्न को हथियार बनाना पड़ता है !
हर मुश्किल को जुनूँ से हराना पड़ता है !
चूमती नहीं कदम यूँ ही कामयाबी !
तपाकर खुद को कुंदन बनाना पड़ता है !
कामयाबी चेहरा नहीं लग्न देखती है !
लड़का या लड़की नहीं सोच देखती है !
कामयाबी चाहिए तो सोच बदलनी होगी !
बस एक दिन नहीं हर रोज बदलनी होगी !

Like 2 Comment 0
Views 329

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing