**कामयाबी का परचम**

ठानी है दिल ने कुछ कर दिखाने के लिए ।
अब नहीं रुकेंगे ये कदम ज़माने के लिए ।।
जिसे दिक्कत हो वो अपना रास्ता बदल ले ।
हम इरादे नहीं बदल सकते ज़माने के लिए ।।

पैदा हुए हैं हवाओं का रुख मोड़ने के लिए ।
बहते पानी की तरह चट्टान तोड़ने के लिए ।।
काटें राहों में जमाना चाहे जितने मर्जी बिछाए ।
हममें भी हुनर है काटों से लड़ने के लिए ।।

तिनका समझने की भूल ना करना ।
अक्ल का कच्चा समझने की भूल ना करना ।।
जमाना देखता रह जाएगा कारनामे हमारे ।
हमको कोई आम समझने की भूल ना करना ।।

कामयाबी तो अब हम पाके रहेंगे ।
आसमाँ को धरती पे लाके रहेंगे ।।
कह दो उनसे जो जलते हैं हमसे ।
हवाओं का रुख हम मोड़ के रहेंगे ।।

देखना जल्द ही पैमाना बदलेगा ।
किस्मत का मेरी फ़साना बदलेगा ।।
वाह वाह करेगा एक दिन जमाना मेरी ।
जब सदाओं से मेरी ये जमाना बदलेगा ।।

हर फिजा नाम मेरा दोहरायेगी ।
हर फलक गुण मेरे गायेगी ।।
देखने वाले देखते ही रह जाएंगे ।
जब कामयाबी मेरी परचम लहराएगी।।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 5 Comment 1
Views 164

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share