23.7k Members 49.8k Posts

कान्हा

रे सखी
आज कान्हा
फिर इठलाये है
सुबह से शाम तक
वो छुपो छुपो
हमें तडपाऐ है

रे सखियो
तू इते देख
तू उतो देख
श्याम को तो
मै ही देख पाऐगी

वॄन्दावन की
गलियन में
कॄष्णा अकेला
भटक जाऐगो
रे सखियों
तू इत गली
तू उत गलियन
तनिक देख के आ

मैं तो जानू
नन्दलाल को मिलनो
मोसो है
तबी छिपाछिपाई
कर रहो
सखियां देख

(स्वरचित)
लेखक संतोष श्रीवास्तव बी 33 रिषी नगर ई 8 एक्स टेंशन बाबडिया कलां भोपाल

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Santosh Shrivastava
Santosh Shrivastava
भोपाल , मध्य प्रदेश
690 Posts · 3.7k Views
लेखन एक साधना है विगत 40 वर्ष से बाल्यावस्था से होते हुए आज लेखन चरम...