Aug 9, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

कातिल हमारा मुकर गया

कभी किस्मत कभी फिर सहारा मुकर गया
कश्ती जो लगी पार फिर किनारा मुकर गया
*********************************
लगा के धार भी दी हमने खुद खंजर पे मगर
वक्त जो आया कातिल फिर हमारा मुकर गया
*********************************
कपिल कुमार
09/08/2016

1 Comment · 17 Views
Copy link to share
Kapil Kumar
154 Posts · 4.4k Views
Follow 2 Followers
From Belgium View full profile
You may also like: