23.7k Members 49.9k Posts

कागज की कश्ती

किसी ने भेजकर कागज की कश्ती
बुलाया है समन्दर पार मुझे.
वो नादाँ है क्या जाने
दुनिया लगी है डुबाने मुझे.

डगमगाती कभी संभलती वो,
लहरों से फ़िर भी लडती वो,
परवाह न कोई गुमां उसे,
होंसला कभी न हारती वो.
अरमानों से सजाकर कागज की कश्ती
बुलाया है समन्दर पार मुझे.

जाँऊ कि न जाँऊ उधेड़बुन में,
मन ही मन उसकी धुन में,
खुदा तो कभी खुद को मनाती,
बस उसी की पुकार सुन मैं.
बैठती लजाकर कागज की कश्ती,
बुलाती है समन्दर पार मुझे.

खत्म हुआ वर्षों का इंतज़ार अब तो,
मिलन का है एतबार अब तो,
हँसी पल है ये जिन्दगी का,
खत्म ना हो ये घडियाँ अब तो,
बनाकर भेजी है कागज की कश्ती.
बुलाया है समन्दर पार मुझे.

©® आरती लोहनी..

Like Comment 0
Views 33

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
arti lohani
arti lohani
65 Posts · 2k Views