कागज और कलम की बातचीत

कागज़ बोले कलम से क्यूँ इतना सताती हो,

कभी पेंसिल से तो कभी पेन की निब चुभाती हो |

कुछ लिखती हो टेढ़ा मेढ़ा, तो कभी सरपट लिख जाती हो |

मेरे सुन्दर साफ़ ह्रदय को क्यूँ गन्दा कर जाती हो |

इतना सुन कलम इठलाने लगती है,

मुस्कुराते हुए समझाने लगती है |

प्रिय कागज़ आप बन रहे मूरख हैं,

हम दोनों तो एक दूजे के पूरक हैं |

लगते हैं हम पूरे पति पत्नी,तू मेरा कागज़ मैं तेरी लेखनी |

तेरे साथ जुड़ने से ही तो मेरा महत्व है,

कागज़ है तो कलम का अस्तित्व है |

हम दोनों के संगम से कुछ ऐसा लिख जाता है,

जीवन के हर पहलू को अपना लेख दर्शाता है |

कभी बन जाता है मार्ग शिक्षा का, तो कभी काव्य ये कहलाता है |

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share