.
Skip to content

काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

गीत

May 6, 2017

धोकर के मन की कालिख मुख प्रीति चोज लो
कांटो में खिलो फूल-सम औ दिव्य ओज लो

जिसने भी रक्त चूस सताया है दीन को
धिक्कारो ऐसे जीवन ,उस नर प्रवीण को
भारी है काल सब पर गुरुवाणी रोज लो
कांटो में खिलो फूल-सम औ दिव्य ओज लो

निज राष्ट्र तब सबल है जब ना दीनता छले
गम,भूख ,द्वंद,,चीखों, औ घुटन के सिलसिले
दूर हों समाज से उपाय ऐसे खोज लो
कांटों में खिलो फूल-सम औ दिव्य ओज लो

मनुजता-सुबोध चासनी का पान कीजिए
नेह-रूपमय हृदय ना अब विराम लीजिए
सघन एकता के राग का अमल सरोज लो
कांटों में खिलो फूल-सम औ दिव्य ओज लो

बृजेश कुमार नायक
जागा हिंदुस्तान चाहिए एवं क्रौंच सुऋषि आलोक कृतियों के प्रणेता
06-05-2017
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति का गीत
(परिष्कृत गीत)
चोज=सुभाषित

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
परशु-धार सम-ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति के शुभ सुंदर मिलन-सम परशुराम की नीति| सदा बीरता की सुगति, सहित सघन शिव-भक्त | इसीलिए तो हो गई,... Read more
अप्रैल फूल बनाकर हँस लो
अप्रैल फूल बनाकर हँस लो सबको आज हँसाकर हँस लो रूठा हुआ शाम से कोई उसको सुबह मनाकर हँस लो क्यों बैठो हो गाल फुलाकर... Read more
मान लो गीत जिन्दगी को
Rita Singh गीत Oct 7, 2016
मान लो गीत जिंदगी को और गुनगुनाना सीख लो । जगा लो मन में उमंगें और मुस्कुराना सीख लो । उलझनें हिस्सा हैं जीवन का... Read more
ज्ञान नैनू पकड़, बन अमल दिव्य पथ
प्रेम शुभ दिव्य सत् ,स्व विचारों को मथ| ज्ञान नैैनू पकड़, बन अमल दिव्य पथ | यामिनी के प्रहर- सम तुम्हारी पलक| प्रीति मन संग... Read more