31.5k Members 51.9k Posts

काँटों को अपनाकर देखें

आओ फूल खिलाकर देखें
काँटों को अपनाकर देखें

खुली आँख से रातों में अब
सपने नए सजाकर देखें

बड़े दिनों से दर्द सहा है
चलो आज मुस्काकर देखें

रिश्ते नाते दूर हुए सब
फिर परिवार बनाकर देखें

मंजिल की चाहत में गुम थे
जो खोया था पाकर देखें

धन दौलत में डूब गए सब
अहम को आज जलाकर देखें

आँखों में जो कैद हैं मेरे
मोती आज लूटाकर देखें

तेरे आने की आहट है
दुल्हन सा शरमाकर देखें

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’

161 Views
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
68 Posts · 12k Views
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ,...
You may also like: