.
Skip to content

क़िस्सा अजीब है न कहानी अजीब है

Salib Chandiyanvi

Salib Chandiyanvi

गज़ल/गीतिका

August 28, 2016

किस्सा अजीब है न कहानी अजीब है
राजा के साथ है जो वो रानी अजीब है
********
घटती है उम्र उसकी न मरती है दोस्तो
रहती है चाँद पर वो जो नानी अजीब है
********
दिन में महकती रहती है हैरत ज़दा हूँ मैं
सब ख़ुशबुओं में रात की रानी अजीब है
********
इबरत हंसी मजाक़ नहीं फलसफ़ा है ये
जो लिख रहा हूँ मैं वो कहानी अजीब है
********
झरने पहाड़ फूल हवा धूप छाँव क्या
कुदरत की एक एक निशानी अजीब है
********
सालिब चन्दियानवी

Author
Salib Chandiyanvi
मेरा नाम मुहम्मद आरिफ़ ख़ां हैं मैं जिला बुलन्दशहर के ग्राम चन्दियाना का रहने वाला हूं जाॅब के सिलसिले में भटकता हुआ हापुड आ गया और यहीं का होकर रह गया! सही सही याद नहीं पर 18/20की आयु से शायरी... Read more
Recommended Posts
अजीब सा दौर है
अजीब सा दौर है हरेक राह टेढ़ी चुनता है हर कोई नया जाल, नया किस्सा बुनता है ****************************** किस्सों में सिमटती जा रही है अब... Read more
ग़ज़ब हो रहा.............
"आखिरकार.... साहब माफ़ करना, सोचने की बात हैं कि, "ग़ज़ब हो रहा था" या "सब कुछ ग़ज़ब हुआ था" साहब..... इसमें अज़ीब यह नहीं कि,... Read more
मैं जो हूँ वो हूँ जो नही हूँ वो होने का मुझसे दिखावा भी नही हो सकता कभी कभी अपनी इसी आदत के कारण मुश्किलो... Read more
कविता या कहानी नहीं
kamni Gupta शेर Aug 15, 2016
कैसे कह दूं मैं कोई कहानी। न मैं कोई कवि न मैं कोई ज्ञानी।। चंद लफ्ज़ों में कैसे कह दोगे उसकी ज़िन्दगी कहीं। इन्सान है... Read more