Aug 10, 2016 · शेर

कह न पाए

१-वो बातें अकसर घायल करती रही!
चाह कर भी न कह पाए जो हम कभी!!

२-मिलकर भी रह जाती हैं कुछ तो हसरतें बाकि!
तुम बार बार यूं हमें दिल से पुकारा न करो!!

6 Views
I am kamni gupta from jammu . writing is my hobby. Sanjha sangreh.... Sahodri sopan-2...
You may also like: