.
Skip to content

कहीं से न पौन है|/परम देश भक्त बन|

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

March 18, 2017

(1)
कहीं से न पौन है
…………………..
ज्ञान की सु गोन है|
सहज और मौन है|
‘नायक’वह प्रेममय|
कहीं से न पौन है|

( 2)
परम देश-भक्त बन
…………………..
नहीं मोह-ग्रस्त बन |
चेत-सूर्य मस्त बन|
आत्मा को जानकर |
परम देश-भक्त बन|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
विधा आओ चले कहीं दूर देश
आओ चले कहीं दूर देश पंख फैला विचरण करते आओ चले कही दूर देश हिंद का शांति संदेश पहुँचाते चलो शांति दूत बन जाते आओ... Read more
प्यार का नशा
डरते हैं कहीं कहर ना बन जाये शाम सुहानी तपती दोपहर ना बन जाये रग रग में मौजूद है नाम तेरा इस कदर तेरे प्यार... Read more
मेरे प्यारे भारत देश जो पूछे कोई तेरा वेश !
मेरे प्यारे भारत देश जो पूछे कोई तेरा वेश ! कहीं विस्तृत -विस्तृत हैं खेत, कहीं है फैली बालू रेत, छटा नहरों की कहीं विशेष,... Read more
कहते हैं आजकल .....
नासूर का होता अगर..... नोटबन्दी शायद कहीं हथौड़ा सा बन गया कोई उठा के फायदा थोड़ा सा बन गया मार्केट जिसकी थी नहीं वेल्यु किसी... Read more