.
Skip to content

कहीं कुछ भी नही है

शिवदत्त श्रोत्रिय

शिवदत्त श्रोत्रिय

कविता

October 13, 2016

सब कुछ है धोखा कुछ कहीं नही है
है हर कोई खोया ये मुझको यकीं है
ना है आसमां ना ही कोई ज़मीं है
दिखता है झूठ है हक़ीकत नही है||

उपर है गगन पर क्यो उसकी छावं नही है?
है सबको यहाँ दर्द मगर क्यो घाव नही है?
मै भी सो रहा हूँ, तू भी सो रहा है
ये दिवा स्वपन ही और कुछ भी नही है||

मैने बनाया ईश्वर, तूने भी खुदा बनाया
दोनो का नाम लेकर खुद को है मिटाया
क्या उतनी दूर है, उनको दिखता नही है
ये कहीं और होगे ज़मीन पर नही है||

एक बूँद आँखो से, दूसरी आसमां से
हसाते रुलाते दोनो आकर गिरी है
दोनो की मंज़िल, बस ये ज़मीं है
पानी है पानी और कुछ भी नही है ||

Author
शिवदत्त श्रोत्रिय
हिन्दी साहित्य के प्रति रुझान, अपने विचारो की अभिव्यक्ति आप सब को समर्पित करता हूँ| ‎स्नातकोत्तर की उपाधि मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रोद्योगिकी संस्थान से प्राप्त की और वर्तमान समय मे सॉफ्टवेर इंजिनियर के पद पर मल्टी नॅशनल कंपनी मे कार्यरत... Read more
Recommended Posts
आंखें
नही बात है शब्द नही है कुछ समझाया आंखों ने मौन होंठ ने भी बात कही है कही इसारे रहे बोलते संकेतो से बात कही... Read more
*यू ही नही किया करते*
*यू ही नही किया करते* यू ही बस बेबजह इल्जाम नही लगाया करते,,, बफादार को बेबफा कहकर नही बुलाया करते,,, हक्कीकत से जब रूबरू ही... Read more
वक़्त आ गया है
ब्रह्मांड सा विस्तार हो रहा हैं हर दिन इंसान का सोच, मानव का जीवन कहीं ऐसा तो नही इस विज्ञान युग में हम धरती को... Read more
सुंदर सलिल सुकोमल तू है,नयन नीर बहावे क्यो
सुंदर सलिल सुकोमल तू है,नयन नीर बहावे क्यो | मधुर मधुर बाणी से प्यारी,हँसती और हँसाती क्यो|| बात बात का बना पथंगा,तन तन मे इठलावे... Read more