.
Skip to content

कहीं इश्क ना हो जाये

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

December 21, 2016

नैनो से कह दो कहीं अश्क ना हो जाये ।

गलती से परदेशी से इश्क ना हो जाये ।

हमारी एक झलक की खातिर तू बेकरार ना हो जाये ।

रखना साये में जुबां को कहीं इकरार ना हो जाये ।

करके दीदार मेरा तू कहीं खो ना जाये ।

करके याद हमको तू खुद को भूल ना जाये ।

रखले उंगली लबों पर कहीं दिल फिसल ना जाये ।

हमसे बार बार मिलने को पागल मचल ना जाये ।

बेरुखी से हमारी कहीं तू रूठ ना जाये ।

जुदाई में तेरा दिल कहीं टूट ना जाये ।

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
तुम से महोबत इतनी हो जाये/मंदीप
तुम से महोबत इतनी हो जाये/मंदीप तुम से महोबत इतनी हो जाये मेरे दिल में तेरा दिल बस जाये। जिस भी राह से मै जब... Read more
चलो  आज ये बात  भी  आर-पार हो जाये
चलो आज ये बात भी आर-पार हो जाये दुश्मन दुश्मन ही रहे यार -यार हो जाये ये जो उछालते हो गिरा- गिरा के उठाते हो... Read more
अंधेरों को हमसफ़र किया जाये
अंधेरों को हमसफ़र किया जाये नज़रों को यूँ तेज़तर किया जाये निकले हुए हैं तीर ज़माने भर से ज़रूरी है सीना सिपर किया जाये रख... Read more
कोई ना जाने..........
कोई ना जाने कब वक्त दगा कर जाये, चलती फिरती देह कब मिटटी हो जाये, लंबी उम्र जीने की सोच सोच रहा हर कोई, बेखबर... Read more